Andhra Bank
Facebook Twitter

टोल फ्री नंबर: 1800 425 1515

banner
 
Financial Inclusion
 
  Financial Inclusion

भारत सरकार और भारतीय रिजर्व बैंक ने मार्च,2012 के अंत तक 2000 से अधिक जनसंख्‍या वाले सभी गांवों में बैंकिंग सेवा आउटलेट प्रदान करने हेतु वित्‍तीय समावेशन योजना कार्यान्वित करने का अनुदेश सभी बैंकों को दिया है. हमारे बैंक ने व्‍यवसाय प्रतिनिधि के नेटवर्क अर्थात शाखारहित बैंकिंग आउटलेट के साथ सूचना और संप्रेषण तथा तकनीकी मोड का प्रयोग करते हुए वित्‍तीय समावेशन योजना को कार्यान्वित करने का रोडमैप प्रस्‍तुत किया है. बैंक ने एफ आई पी के लिए ‘’ इंड टू इंड ‘^ सोल्‍यूशन देने हेतु सेवा प्रदाता के रूप में मेसर्स बैट्रोनिक्‍स इंडिया लिमिटेड को पैनल में रखा है. ऐसे आउटलेटों की व्‍यवस्‍था हेतु हमारे बैंक को 2000 से अधिक जनसंख्‍या वाले 1149 गांवों को आबंटित किया गया है, जिनमें से 1054 आन्‍ध्र प्रदेश राज्‍य में स्थित हैं. सभी गांवों को कवर करने की वित्‍तीय समावेशन योजना(एफआईपी) भारतीय रिजर्व बैंक को प्रस्‍तुत की गई.

एफ आई पी कार्यान्‍वयन हेतु बैंक द्वारा नियुक्‍त मेसर्स बैट्रोनिक्‍स इंडिया लिमिटेड संस्‍थागत व्‍यवसाय प्रतिनिधि ने बिक्री केन्‍द्र (प्‍वाइंट ऑफ सेल) उपकरणों के माध्‍यम से बैंकिंग लेनदेन संचालित करने हेतु प्रत्‍येक गांव में अलग अलग व्‍यवसाय प्रतिनिधि/ ग्राहक सेवा प्रदाता को अभिनियोजित किया है. ग्राहक सेवा प्रदाताओं का अभिनियोजन संबद्ध शाखा द्वारा उपयुक्‍त सावधानी प्रक्रिया को अपनाने के बाद किया गया है.

बैंक ने ग्रामीणों के दरवाजे तक इन व्‍यवसाय प्रतिनिधियों द्वारा संचालित किये जाने वाले बैंकिंग आउटलेटों के माध्‍यम से चार मूल उत्‍पादों को प्रदान करने का प्रस्‍ताव रखा है, वे हैं: ए) बिल्‍ट इन ओवरड्र्राफ्ट सुविधा के साथ सामान्‍य बचत बैंक खाता बी) आवर्ती जमा उत्‍पाद सी) धनप्रेषण सुविधा और डी) केसीसी या जीसीसी के रूप में उद्यमवृति को ऋण.

2000 से अधिक जनसंख्‍या वाले गांवों को कवर करना –

बैंक को आबंटित कुल गांव

1149

उपर्युक्‍त में से –

  • आन्‍ध्र प्रदेश में
  • आन्‍ध्र प्रदेश से बाहर



1054
95

हिताधिकारियों की संख्‍या जिन्‍हें कवर किया जाना है

6 lacs

2000 से अधिक जनसंख्‍या वाले गांवों में बैंकिंग सेवा आउटलेटों के प्रबंध हेतु वित्‍तीय समावेशन योजना(एफ आई पी) का कार्यान्‍वयन – प्रगति

 

विवरण

31.03.2011

तक प्रगति 31.03.2012

लक्ष्‍य 31.03.2012

लक्ष्‍य

प्राप्ति

2000 से अधिक जनसंख्‍या वाले गावों को कवर करना

500

540

1149

1149

खोले गए ग्राहक खातों की संख्‍या

1.50 लाख

1.52 लाख

6.42 लाख

6.00 लाख

वित्‍तीय साक्षरता पहल :

बैंक ने वित्‍तीय समावेशन योजना के संबंध में ग्रामीण जनता को शिक्षित करने के लिए पैम्‍फलेटों को रिलीज किया है और प्रचार वैनों को रखा है. शाखा प्रबंधक ग्रामीण जनता के लाभ हेतु वित्‍तीय साक्षरता को प्रोमोट करने के लिए गांव गांव जा रहे हैं .गांवों में वित्‍तीय साक्षरता को प्रोमोट करने हेतु ठेके के आधार पर सुपरवाइजरों और गावों में गुणत्‍मक सेवा प्रदान करने हेतु ग्राहक सेवा प्रदाताओं को परामर्श देने के लिए परामर्शदाता नियुक्‍त किये गए हैं.

वित्‍तीय समावेशन साक्षरता अभियान के भाग के रूप में ग्रामीण क्षेत्रों में प्रदर्शित करने के लिए लेख तैयार किये गए हैं. वित्‍तीय साक्षरता से संबंधित प्रचार सामग्री को प्रदर्शित करते हुए मोबाइल जीप भी ग्रामीण क्षेत्रों में भेजी गई हैं. बैंक के पास शीघ्र ही बड़े पैमाने पर इन पहल को प्रचार करने की योजना है.

आन्‍ध्र प्रदेश की एस एल बी सी के संयोजक के रूप में हमने स्‍वाभिमान अभियान के भाग के रूप में पोस्‍टर्स की छपाई, आडियो सामग्री आदि के माध्‍यम से ग्रामीण जनता द्वारा बचत बैंक खोलने के लाभ से संबधित सर्वमान्‍य प्रचार पहल को अपनाया हे.

वित्‍तीय समावेशन की अन्‍य पहल :

  1. सरकारी योजनाओं के लाभ का इलेक्‍ट्रॉनिक अंतरण—एमजीएनआरईजी(महात्‍मा गांधी राष्‍ट्रीय ग्रामीण नियोजन गारंटी योजना) और एस एस पी (सामाजिक सुरक्षा पेंशन)

    लाभ का इलेक्‍ट्रॉनिक अंतरण (आन्‍ध्र प्रदेश के 4 जिलों में, जिसमें गुंटूर ओर श्रीकाकुलम जिले ‘’ एक जिला- एक बैंक’’ मॉडल अंतर्गत, पूर्वी गोदावरी जिला सेवा क्षेत्र दृष्टिकोण अंतर्गत और वरंगल जिला(25 गांवों को कवर करते हुए एक पायलट मंडल)

    कवर किये गए गांवों की संख्‍या 2665
    अभिनियोजित व्‍यवसाय प्रतिनिधि/ ग्राहक सेवा प्रदाताओं की संख्‍या 2665
    नामांकित हिताधिकारियों की संख्‍या 14.65 लाख

  2. स्‍वयं सहायता समूहों हेतु स्‍मार्ट कार्ड आधारित लेनदेन :

    योजना पायलट प्रोजेक्‍ट आधार पर चार शाखाओं में काम कर रही है. रायवरम, अणपर्ती, कडियम ओर बीबीनगर के सभी स्‍वयं सहायता सूमह अपने अपने गांवों में व्‍यवसाय प्रतिनिधि द्वारा ऑपरेट किये जा रहे बिक्री केन्‍द्रों के माध्‍यम से बैंकिंग लेनदेन कर रहे हैं. इस पद्धति से महिला स्‍वयं सहायता समूह अपना समय और राशि बचा रही हैं क्‍योंकि उनके स्‍वयं सहायता समूह खाते में सामान्‍य बैंकिंग लेनदेन उनके घर पर किये जाते हैं.

Click here for Statement of Villages covered by Andhra Bank in Andhra Pradesh
Click here for Statement of Villages covered by Andhra Bank in Other States

 
chiclogo