Andhra Bank
Facebook Twitter Youtube

टोल फ्री नंबर: 1800 425 1515

 
सावधि ऋण
 
  उद्देश्य


नई इकाई स्था‍पित करने/ मौजूदा इकाई की क्षमता बढाने /विविधिकरण/आधुनिकीकरण के

 
 सीमा निर्धारण

कर्ज भुगतान के लिए परियोजना की तकनीकि व्याूवहार्यता और आर्थिक संभाव्यता के आधार पर
 
  वित्त के लिए पात्र घटक

उचित मार्जिन के साथ भूमि, भवन/प्लांरट एवं मशीनरी और अचल संपत्ति
 
  प्रतिभूति

प्राथमिक : सावधी ऋण से बनाई गई संपत्तियों पर पहला प्रभार
संपार्श्विक : एकल सावधी ऋण /संमिश्र ऋण की स्थिति में रु.10 लाख की ऋण सीमा तक के लिए कोई संपार्श्विक प्रतिभूति नही रु.10 लाख से उपर की ऋण सीमा के लिए बैंक के नियमानुसार
 
  सह-बाध्यता/ गारंटी

एकल सावधी ऋण /संमिश्र ऋण की स्थिति में रु.10 लाख तक की ऋण सीमा तक के लिए अन्यी पक्ष की गारंटी आवश्यीक नहीं. रु.10 लाख से उपर की ऋण सीमा के लिए बैंक के नियमानुसार.
 
 चुकौती

अवकाश समय के अतिरिक्तण 5-7 वर्ष यदि योजना भारतीय रिजर्वं बैंक /भारत सरकार द्वारा तैयार की जाती है तो पुनर्भुगतान अवधि योजना निर्माण के अनुसार होगी.
 
आपात सावधी ऋण
 
 उद्देश्यध

अति‍रिक्त मशीनरी जैसे खराद मशीन, जनरेटर, शेष यंत्र, वाहन इत्याणदि प्राप्त् करने के लिए
 
 पात्रता

"ए" या अधिक श्रेणीकृत एमएसएमई उधारकर्त्ताव ऋण चुकौती के लिए दीर्घावधि निधि की उपलब्धवता की पुष्टि करते हो
 
 वित्तत की मात्रा

नि‍धि आधारित सीमा(सावधी ऋण एवं कार्यशील पूंजी) का 20% प्रतिशत बशर्ते 20 लाख की क्षमता हो
 
  प्रतिभूति

प्राथमिक : ऋण से खरीदी गई परिसंपत्तियां
संपार्श्विक : मौजूदा संपार्श्विक प्रतिभूतियां जारी रहेंगी
 
 सह-बाध्यंता /गारंटी

मौजूदा सह-बाध्यभता /अन्यं पक्ष गारंटी जारी रहेगी
 
  पात्रता

मंजूरी नियमित कार्यशील पूंजी सीमा देय दिनांक तक लागू होगी जहां कार्यशील पूंजी सीमा विद्यमान हो या एकल सावधि ऋण की स्थिति में मंजूरी की दिनांक से एक वर्ष तक
 
  चुकौती

अधिकतम 5 वर्षों में मासिक /तिमाही किश्तों में चुकाने के लिए
 
chiclogo