Andhra Bank

टोल फ्री नंबर: 1800 425 1515

banner
 
एबी रिकरिंग प्‍लस
 
 नया जमा योजना एबी "रिकरिंग प्‍लस" का शुभारंभ
 
आवर्ती जमा योजना एक निश्चित अवधि में एक निश्चित राशि नियमित मासिक जमा के जरिए बचत करने के लिए व्यक्तियों द्वारा स्थिर एवं क्रमिक बचत की योजना है एवं जो मासिक आधार पर आय पाते हैं, उनसे बचत संग्रह करने के लिए एवं अपनी आय का एक अंश बचत कर सकते हैं. यह एक अवधि के लिए बचत करने पर जमाकर्ताओं को अपनी भविष्यत आकस्मिकताओं को पूरा करने में सहायक होता है. यह व्यापारी समुदायों, फर्मों, कंपनियों, शैक्षिक संस्थाओं एवं अन्य संघों, जो भविष्यत  अपेक्षाओं को पूरा करने के लिए एक अवधि के बाद आधारभूत निधि चाहते हैं, के लिए भी सुविधाजनक है.
इस योजना में अन्य प्रमुख लाभ यह है कि अन्य मीयादी जमाओं की तरह जमाराशि पर व्याज मिलता है (जमा की अवधि के अनुसार) परंतु प्रोदभूत व्याज टीडीएस के अधीन नहीं है. आवर्ती जमाओं की यह विशेष सुविधा अन्य मीयादी जमाओं में नहीं है.
आवर्ती जमा योजना पर हमारे विद्यमान मार्गदर्शी सिद्धांतों के अनुसार जमाकर्ता को मासिक किस्त के रूप में एक निश्चित राशि के लिए विकल्प देना चाहिए जो न्यूनतम एवं अधिकतम के अधीन होगा. एक बार निश्चित की गयी राशि को जमाकर्ता बदल नहीं सकता, चाहे उसके अर्जन में वृद्धि हो एवं मासिक अधिक राशि या महीने में एक से अधिक बार जमा करने में सक्षम हो. ऐसे मामलों में जमाकर्ता को और एक आवर्ती जमा योजना खोलनी होगी.
योजना दिनांक 22. 06. 2009 से प्रभावी होगी तथा योजना की मुख्य बातें निम्न प्रकार हैं :
 
 योजना की उपलब्‍धता

कोरबैंकिंग सोल्यूशन के अंतर्गत सभी शाखाओं में
 
  पात्रता

जैसा कि विद्यमान आवर्ती जमा योजना के अनुसार
 
 अवधि

जमा की न्‍यूनतम अवधि 6 महीने और अधिकतम अवधि 60 महीने हैं.
 
 ब्‍याज दर

विद्यमान मार्गदर्शी सिद्धांतों के अनुसार जमा अवधि के आधार पर जैसा कि मीयादी जमाओं के मामले में हैं. वरिष्ठ नागरिक, विद्यमान एवं सेवानिवृत्त स्टॉफ, प्रभावी मार्गदर्शी सिद्धांतों के अनुसार अतिरिक्त ब्याज दर के लिए पात्र हैं..
 
 किस्‍त की राशि

खाता प्रारंभ करते समय जमाकर्ता 100/- और इसके गुणज में अधिकतम 1,00,000/- कोर किस्त का चयन कर सकता है. खाता प्रारंभ करते समय चयन की गयी मासिक किस्त कोर राशि से कम नहीं होगी.
 
स्‍टेप अप विकल्‍प

जमाकर्ता को निम्‍न मार्गदर्शी सिद्धांतों के अनुसार एवं न्‍यूनतम एवं अधिकतम निर्धारिती के अधीन मासिक किस्‍त स्‍टेप अप करने का विकल्‍प होगा:

  • जमाकर्ता किस्‍तों को जमा की परिपक्‍वता से पहले कोई या सभी महीनों के दौरान कोर राशि के 10 गुना तक स्‍टेप अप कर सकता है  इन राशियों को महीनों के दौरान निम्‍न शर्तों के अधीन खाते में कई बार जमा कर सकता है.
  • महीने के दौरान जमा की गयी राशि कोर राशि के 10 गुना से अधिक न हो.
  • महीने के दौरान जमा की गयी राशि कोर राशि से कम न हो

स्‍पष्‍टता हेतु : 100/- की कोर राशि के साथ खाता खोलनेवाला जमाकर्ता : 1000/- से अधिक किस्‍त किसी महीने में जमा नहीं कर सकता है, और : 1,00,000/- की कोर राशि के साथ : 10,00,000/- से अधिक किस्‍त किसी महीने में जमा नहीं कर सकता है.

 
 भुगतान का प्रकार

मासिक उत्पाद के आधार पर महीने के दौरान 10 तारीख से अंतिम दिवस के बीच के न्यूनतम शेष पर तिमाही के लिए बचत बैंक की तरह ब्याज दिया जाएगा. अतः जमाकर्ता द्वारा प्रति महीने 10 तारीख को किस्त प्रेषण करने पर उस महीने के लिए ब्याज की हानि नहीं होगी.
 
आगे
chiclogo