Andhra Bank
Facebook Twitter

टोल फ्री नंबर: 1800 425 1515

banner
 
NRE ACCOUNT - Non Resident ORDINARY
 
अनिवासीसामान्‍य
अनिवासीबाहरी
विदेशी मुद्रा –अनिवासी (बी)
निवासी विदेशी मुद्रा(लौटते भारतीय)
प्रमुख उद्देश्‍य जिसके लिए सामान्‍यतया खाते खोले जाते हैं ये खाते उन एन.आर.आई के लिए उपयोगी हैं जो एनआरआई बनने के पूर्व या उनके द्वारा एनआरआई की हैसियत के दौरान भारत में अभिप्राप्‍त आस्तियों पर नियममित आय प्राप्‍त करते हैं तथा भारत में अपनी वास्‍तविक आवश्‍यकताओं को पूरा करने हेतु भारतीय रूपयों में स्‍थानीय भुगतान करना है। जब ग्राहक प्रत्‍यावर्तन में रुचि रखता है तथा कर का लाभ उठाना चाहता है तब एनआरई खाते उचित हैं क्‍योंकि खाते की राशियॉं कर मुक्‍त हैं। एनआरआई जो विदेशी विनिमय के उतार-चढ़ाव की जोखिम से बचना चाहते हैं तथा प्रत्‍यावर्तन सुविधाओं का लाभ उठाना चाहते हैं, अपनी राशियों को एफ़सीएनआर जमाओं में रखते हैं। ये खाते केवल विदेशी मुद्रा में बनाए रखे जाते हैं। लौटते भारतीय जो अपनी राशि केवल विदेशी मुद्रा में रखना चाहते हैं, यद्यपि उनका उद्देश्‍य स्‍थायी रूप से भारत में रहना है तथा प्रत्‍यावर्तन सुविधाओं का लाभ उठाना है। उनकी हैसियत दुबारा एनआरआई के रूप में परिवर्तित हो जाने के परिणामस्‍वरूप एनआरआई/एफ़सीएनआर खाते में राशि का परिवर्तन/अन्‍तरण किया जा सकता है।
मुद्रा जिसमें खाता बनाए रखा जाता है केवल भारतीय रुपए भारतीय रुपए यूएसडी,जीबीपी,ईयूआर, एयूडी, सीएडी,जेपीवाई,सीएचएफ,डीकेके, एनजेडडी,एसईके विदेशी मुद्रा – वर्तमान में (केवल यूएसडी/जीबीपी/यूरोसीएडी/ /एयूडी में)
जमा-प्रकार चालू, बचत,आवर्ती तथा मीयादी जमाऍं चालू, बचत, आवर्ती तथा मीयादी जमाऍं मीयादी जमाऍं चालू, बचत, आवर्ती तथा मीयादी जमाऍं
मीयादी जमाओंकी अवधि देशी जमाओं के लिए जैसे लागू हो 1 वर्ष से 5 वर्ष तक 1 वर्ष से 5 वर्ष तक 1 वर्ष से 5 वर्ष तक
संयुक्‍त खाते निवासी भारतियों के साथ अनुमत है। एनआरआई को प्रथम आवेदक रखते हुए खाता खोला जाएगा। अन्‍य एनआरआई के साथ अनुमत है। एनआरआई को प्रथम आवेदक रखते हुए पूर्ववर्ती पूर्ववर्तीव्‍यक्ति या उत्‍तरजीवी के आधार पर निवासी भारतीय संयुक्‍त खाताधारक हो सकते हैं। अन्‍य एनआरआई के साथ अनुमत है। अन्‍य पात्रता रखने वाले व्‍यक्ति के साथ अनुमत है।
खाते का परिचालन 1.'खाताधारक'स्‍वयं या 'आज्ञा'या ''मुख्‍तारनामा'धारक 2पात्रता रखनेवाले निवेश समेत सभी वास्‍तविक स्‍थानीय भुगतान किए जा सकते हैं। 3. अनिवासी व्‍यक्तिगत खातेधारक को छोड़कर अन्‍य को निधियों का प्रत्‍यावर्तन करने हेतु खातेधारक को अनुमति नहीं है। 4.निवासी को कोई दान नहीं किया जा सकता है तथा अन्‍य एनआरओ खाते को निधियों का अन्‍तरण नहीं किया जा सकता है। 1.आज्ञा या मुख्‍तारनामेधारक की नियुक्ति की जा सकती है। 2.मुख्‍तारनामेधारक के अधिकार स्‍थानीय भुगतान या पात्रता रखनेवाले निवेश निवेश या स्‍वयं खातेधारक को धन विप्रेषण किए जाने तक प्रतिबंधित हैं। जमाकर्ता आज्ञा या मुख्‍तारनामेधारक की नियुक्ति कर सकता है। आज्ञा या मुख्‍तारनामेधारक की नियुक्ति की जा सकती है। मुख्‍तारनामेधारक के अधिकार स्‍थानीय भुगतान या पात्रता रखनेवाले निवेश निवेश या स्‍वयं खातेधारक को धन विप्रेषण किए जाने तक प्रतिबंधित हैं।
ब्‍याज दरें देशी ब्‍याज दरों के अनुसार (कर लागू) वर्तमान दरें:
बचत जमाऍं : 4%
मीयादी जमाऍं : ब्‍याज दरें अविनियमित हैं तथा अब लागू दरें निम्‍न प्रस्‍तुत हैं- 1 वर्ष से 2 वर्ष तक : 9.25%
दो वर्ष से अधिक लेकिन 3 वर्ष तक9.00% तीनवर्ष से अधिक लेकिन 5 वर्ष तक 8.50%
जिस विदेशी मुद्रा में जमा रखी गई है, उसी मुद्रा में ब्‍याज का भुगतान किया जाता है। वर्तमान में 3 वर्ष तक – अनुरूपी अवधि हेतु मुद्रा के लैबोर + 3वर्ष से कम अवधि तक 300. 3 वर्ष से अधिक लेकिन 5 वर्ष तक की अवधि हेतु लैबोर + 300 बीपीएस. वर्तमान दरें: मीयादी जमाऍं: एफ़सीएनआर (बी) जमाओं के लिए यथालागू ब्‍याज दरें।
अनुमत जमाऍं एवं नामे जमाऍं: भारत में खाताधारक को विधि सम्‍मत देय राशियॉं तथा बैंकों के माध्‍यम से विदेश से प्राप्‍त धनविप्रेषण. नामे: सभी स्‍थानीय भुगतान,चालू आय तथा यूएसडी 1 मिलियन तक की सीमा तक भारत के बाहर धन विप्रेषण, बशर्तेंकि कर भुगतान तथा अन्‍य निर्दिष्‍ट शर्तें लागू हों। जमाऍं: विदेश से प्राप्‍त धन विप्रेषण/अन्‍य एनआरई/एफ़सीएनआर खातों से अन्‍तरण, एनआरई खाते, तथा अन्‍य एनआरई खाते जो प्रत्‍यावर्तन प्रकृति के हों, में किए गए निवेश निवेश से प्राप्‍त ब्‍याज तथा आगम राशियॉं। नामे: स्‍थानीय वितरण, भारत के बाहर धन विप्रेषण तथा पात्रता रखनेवाले निवेश हेतु भुगतान तथा भारिबैं द्वारा अनुमत अन्‍य कोई लेनदेन। विदेश से प्राप्‍त धन विप्रेषण/अन्‍य एनआरई/एफ़सीएनआर खातों से अन्‍तरण अपने एनआरई खाते,तथा अन्‍य एनआरई खाते जो प्रत्‍यावर्तन प्रकृति के हों, में किए गए निवेश निवेश से प्राप्‍त ब्‍याज तथा आगम राशियॉं। जमाऍं: विदेश से प्राप्‍त धन विप्रेषण/अन्‍य एनआरई/एफ़सीएनआर खातों से अन्‍तरण,एनआरई खाते, तथा अन्‍य एनआरई खाते जो प्रत्‍यावर्तन प्रकृति के हों, में किए गए निवेश निवेश से प्राप्‍त ब्‍याज तथा आगम राशियॉं, पेंशन या अन्‍य अधिवार्षिता या भारत के बाहर नियोजक से प्राप्‍त मौद्रिक लाभ। आस्तियों की बिक्री प्राप्तियॉं। भारत के बाहर एनआरआई के निवेश। नामे:किसी भी रूप में निवेश पर किसी प्रकार के प्रतिबंध सहित विदेशी मुद्रा शेष से संबंधित सभीप्र प्रकार के प्रतिबंधों से निनिधियॉं मुक्‍त हैं।
मीयादी जमाओं के प्रति ऋण नियम देशी जमाओं के प्रति ऋणों के लिए लागू नियमों के समान हैं। पात्र ऋण राशि:जमा के मूल्‍य का 90% ब्‍याज: जमा पर ब्‍याज + 2%
अन्‍य पक्ष ऋण: अन्‍य पक्ष के त्रणों के मामले में,ब्‍याज दर उधारकर्ता-प्रकार/श्रेणी-प्रकार/श्रेणी,मार्जिन तथा सीमा की मात्रा के अनुसार ब्‍याज –दर बदलती है। यदि ऋण 3 वर्ष से अधिक हो, तो मीयादी प्रीमियम जोडा जाना है। उक्‍त जमाओं के प्रति ऋण का उपयोग पुन: उधार देने या कृषि या बागानी गतिविधियों या स्‍थावर संपदा में निवेश करने के लिए नहीं किया जा सकता है।.
अनुमत पात्र ऋण: ऋण: जमा राशि का 85% जिसकी अधिकतम राशि वर्तमान में रु.100 लाख है। है।(भारिबैं के के विनियमों के अनुसार इसमें परिवर्तन संभव है) उक्‍त जमाओं के प्रति ऋण का उपयोग पुन: उधार देने या कृषि या बागानी गतिविधियों या स्‍थावर संपदा में निवेश करने के लिए नहीं किया जा सकता है।. अधिक जानकारी हेतु अनुमत है। स्‍वयं या अन्‍य पक्ष को जमाओं के प्रति ऋण रुपए तथा विदेशी मुद्रा में उपलब्‍ध हैं। अधिकतम राशि वर्तमान में रु.100 लाख है। है।(भारिबैं के के विनियमों के अनुसार इसमें परिवर्तन संभव है) उक्‍त जमाओं के प्रति ऋण का उपयोग पुन: उधार देने या कृषि या बागानी गतिविधियों या स्‍थावर संपदा में निवेश करने के लिए नहीं किया जा सकता है।. आरएफ़सी जमा योजना के अन्‍तर्गत ऋण नहीं दिया जा सकता है।
समय पूर्व रद्द करना 1% दांडिक ब्‍याज सहित अनुमत है। अनुमत है। 1 वर्ष के पूर्व ब्‍याज का भुगतान नहीं किया जाता है। है। एक वर्ष के बाद 1% दांडिक ब्‍याज लगाया जाता है। अनुमत है। 1 वर्ष के पूर्व ब्‍याज का भुगतान नहीं किया जाता है। कोई स्‍वेप लागत नहीं है। एक वर्ष के बाद 1% दांडिक ब्‍याज लगाया जाता है। अनुमत है। 1 वर्ष के पूर्व ब्‍याज का भुगतान नहीं किया जाता है। एक वर्ष के बाद 1% दांडिक ब्‍याज सहित लगाया जाता है।
कर लाभ नियमों के अनुसार ब्‍याज पर कर लागू है। वर्तमान में 30%जमा कर है। ग्राहक दोहरे कर-निर्धारण, करार से बचना जहॉं भी लागू हो, का लाभ उठा सकते हैं। परिपत्र सं369 दिनांक 25.01.2011. कर मुक्‍त कर मुक्‍त कर मुक्‍त
नामांकन नामिती निवासी या अनिवासी या पीआईओ (मूलतया भारतीय व्‍यक्ति) हो सकता है। अनुमत है। नामिती निवासी या अनिवासी या पीआईओ (मूलतया भारतीय व्‍यक्ति) हो सकता है। निवासी या अनिवासी या पीआईओ (मूलतया भारतीय व्‍यक्ति) के साथ अनुमत है। अनुमत है। नामिती नामिती निवासी या अनिवासी हो सकता है।
प्रत्‍यावर्तन /पुनर्भुगतान 1. एनआरओ खाते में चालू आय (ब्‍याज, लाभ,किराया, लाभांश आदि) लागू कर लगाये जाने के बाद निवल राशि जमा करायी जाती है। 2.एनआरओ खाते में रखी गई जमा शेष किसी वित्‍त वर्ष में यूएसडी 1 मिलियन तक धन विप्रेषण हेतु पात्रता रखती हैं,बशर्तेंकि कि कर लागू हो हो जिसमें आस्तियों की बिक्री प्राप्तियॉं सम्मिलित हैं बशर्तेंकि धनविप्रेषक द्वारा सनदी लेखाकार लेखाकार के प्रमाणपत्र सहित वचन पत्र प्रस्‍तुत किया जाता हो। प्रत्‍यावर्तनीय है। भारतीय रिज़र्व बैंक को संदर्भ कराये बिना अर्जित ब्‍याज भारत के बाहर प्रत्‍यावर्तित किया जा सकता है। जमाकर्ता को विनिमय जोखिम उठाना पडेगा। प्रत्‍यावर्तनीय है। भारतीय रिज़र्व बैंक को संदर्भ कराये बिना अर्जित ब्‍याज भारत के बाहर प्रत्‍यावर्तित किया जा सकता है। प्रत्‍यावर्तनीय है। भारतीय रिज़र्व बैंक को संदर्भ कराये बिना अर्जित ब्‍याज भारत के बाहर प्रत्‍यावर्तित किया जा सकता है।
अपेक्षितप्रलेख शाखा को यह मालूम होने पर कि खाताधारक अनिवासी भारतीय है, तुरंत बचत बैंक खाते को एसबी एनआरओ के रूप में परिवर्तित कर दिया जाना चाहिए। 1.वैध पासपोर्ट 2.वीसा या पीआर या नौकरी-प्रमाण 3.निवास (विदेश) का प्रमाण 4. तथा आवेदनपत्र के अन्‍त में दिए गए अन्‍य प्रमाण 1.वैध पासपोर्ट 2.वीसा या पीआर या नौकरी-प्रमाण 3.निवास (विदेश) का प्रमाण 4. तथा आवेदनपत्र के अन्‍त में दिए गए अन्‍य प्रमाण 1.वैध पासपोर्ट 2.वीसा या पीआर या नौकरी-प्रमाण 3.निवास (विदेश) का प्रमाण 4. तथा आवेदनपत्र के अन्‍त में दिए गए अन्‍य प्रमाण 1.वैध पासपोर्ट 2.वीसा या पीआर या नौकरी-प्रमाण 3.निवास (विदेश) का प प्रमाण 4. तथा आवेदनपत्र के अन्‍त में दिए गए अन्‍य प्रमाण
 
chiclogo